Ram Nam Ke sabun se jo Lyrics in hindi

राम नाम के साबुन से जो मन का मैल छुड़ाएगा लिरिक्स हिंदी में 

राम नाम के साबुन से जो मन का मैल छुड़ाएगा (Ram nam ke sabun se jo man ka mail chhudayega bhajan ) भजन को श्री प्रेमभूशन  जी महाराज (prembhushan ji maharaj) ने बहुत सुन्दर और कर्णप्रिय गाया है 

राम नाम के साबुन से जो मन का मैल छुड़ाएगा

निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा


नर शरीर अनमोल रे प्राणी प्रभु कृपा से पाया है

झूठे जग प्रपंच में पड़ कर क्यों प्रभु को बिसराया है।।

समय हाथ से निकल गया तो………….

समय हाथ से निकल गया तो सिर धुन धुन पछतायेगा।

निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

राम नाम के साबुन से जो मन का मैल छुड़ाएगा

निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा ॥


झूठ कपट निंदा को त्यागो हर प्राणी से प्यार करो

घर पर आए अतिथि कोई तो यथाशक्ति सत्कार करो।।

पता नहीं किस रूप में आकर………………

पता नहीं किस रूप में आकर नारायण मिल जाएगा

निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा।।

राम नाम के साबुन से जो मन का मैल छुड़ाएगा

निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा ॥


साधन तेरा कच्छा है जब तक प्रभु पर विश्वाश नहीं

मंजिल कर पाना है क्या जब दीपक में प्रकाश नही ।।

निश्चय है तो भवसागर से………….

निश्चय है तो भवसागर से बेड़ा पार हो जाएगा

निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

राम नाम के साबुन से जो मन का मैल छुड़ाएगा

निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा ॥


दौलत का अभिमान है झूठा यह तो आनी जानी है

राजा रंक अनेक हुए कितनो की सुनी कहानी है।।

राम नाम प्रिय महामंत्र ही…………

राम नाम प्रिय महामंत्र ही साथ तुम्हरे जायेगा ।।

निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

राम नाम के साबुन से जो………….

राम नाम के साबुन से जो मन का मैल छुड़ाएगा

निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा ॥



राम नाम के साबुन से जो मन का मैल छुड़ाएगा

निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा ॥


राम नाम के साबुन से जो मन का मैल छुड़ाएगा

निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा ॥


>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>

Raam naam ke saabun se jo man ka mail Lyrics in English 


Raam naam ke saabun se jo man ka mail chhudaega

nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega

 

nar shareer anamol re praanee prabhu krpa se paaya hai

jhoothe jag prapanch mein pad kar kyon prabhu ko bisaraaya
hai..

samay haath se nikal gaya to………….

samay haath se nikal gaya to sir dhun dhun pachhataayega.

nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega

Raam naam ke saabun se jo man ka mail chhudaega

nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega .

 

jhooth kapat ninda ko tyaago har praanee se pyaar karo

ghar par aae atithi koee to yathaashakti satkaar karo..

pata nahin kis roop mein aakar………………

pata nahin kis roop mein aakar naaraayan mil jaega

nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega..

Raam naam ke saabun se jo man ka mail chhudaega,

nirmal man ke darpan mein vah
raam ke darshan paega .


saadhan tera kachchha hai jab tak prabhu par vishvaash nahin 

manjil kar paana
hai kya jab deepak mein prakaash nahee


nishchay hai to bhavasaagar se………….

nishchay hai to
bhavasaagar se beda paar ho jaega

nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega

Raam naam ke saabun se jo man ka mail chhudaega

nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega


daulat ka abhimaan hai jhootha yah to aanee jaanee hai

raaja rank anek hue kitano kee sunee kahaanee hai..

Raam naam priy mahaamantr hee…………

Raam naam priy mahaamantr hee saath tumhare jaayega ..

nirmal man ke darpan mein vah raam ke darshan paega

Raam naam ke
saabun se jo………….

Raam naam ke
saabun se jo man ka mail chhudaega

nirmal man ke
darpan mein vah raam ke darshan paega .


Raam naam ke
saabun se jo man ka mail chhudaega

nirmal man ke
darpan mein vah raam ke darshan paega .

Raam naam ke
saabun se jo man ka mail chhudaega

nirmal man ke
darpan mein vah raam ke darshan paega .

 

 





Leave a Comment