मेरे मालिक के दरबार में सब लोगो का खाता लिरिक्स

मेरे मालिक के दरबार में सब लोगो का खाता लिरिक्स 

मेरे मालिक के दरबार में,
है सब का खाता,
जितने जैसा कर्म किया है
वैसा ही फल पाता,
मेरे मालिक के दरबार में,
है सब का खाता |

क्या साधू क्या संत गृहस्थी,

क्या राजा क्या रानी,
प्रभु की बही में लिखी है,
सब की कर्म कहानी,
बड़े बड़े वो जमा खरच का,
सही हिसाब लगाता,
मेरे मालिक के दरबार में,
है सब का खाता,
जितने जैसा कर्म किया है
वैसा ही फल पाता |
नहीं चले उनके घर रिश्वत ,
नही चले चलाकी ,
उनके अपने लेंन देन की,
रीत बड़ी है बाकी ,
पुण्य की नैया पर लगता,
पापी की नाव डुबाता,
मेरे मालिक के दरबार में,
है सब का खाता,
जितने जैसा कर्म किया है ,
वैसा ही फल पाता |

बड़े कड़े कानून पभु के,
बड़ी कड़ी मर्यादा,
किसी को कौड़ी कम नही देता,
किसी को दमड़ी ज्यादा
इसलिए वो सारे जग का,
जगत सेठ कहलाता,
मेरे मालिक के दरबार में,
है सब का खाता |

करता वही हिसाब सभी का ,
नित आसन पर डट के ,
उनका फैसला कभी न बदले,
लाख कोई सर पटके ,
समझदार तो चुप रखता है,
मुर्ख शोर मचाता ,
मेरे मालिक के दरबार में,
है सब का खाता |

उजली करनी कर ले रे बन्दे ,
करम न करियो काला,
लाख आंख से देख रहा है ,
तुझे देखने वाला ,
उनकी तेज नजर से बन्दे कोई नही बच पाता,
मेरे मालिक के दरबार में,
है सब का खाता |

मेरे मालिक के दरबार में,
है सब का खाता,
जितने जैसा कर्म किया है,
वैसा ही फल पाता,

मेरे मालिक के दरबार में,
है सब का खाता |

 
Mere Malik ke darbar me , sab logo ka khata Lyrics
Shrer hanuman mandir Khetasarai

Mere Malik ke darbar me , sab logo ka khata Lyrics in English by Prembhushan ji maharaj

Mere malik ke darbar me ,
sab logo ka khata
Jisne jaisa karm kiya hai
waise hi fal pata
Mere malik ke darbar me,
sab logo ka khata

Kya saadhu kya sant grihasti
Kya raaja kya raani
Prabhu ki bahi me likhi hai ,
Sabki karam kahaani
Bade bade wo jama kharach ka
Sahi hisaab lagaata
Mere malik ke darbar me ,
sab logo ka khata


Nahi chale unke ghar riswat
Nhi chale chalaaki,
Unke apne len den ki
Reet badi hai baki
Punya ki naiya paar lagaata
Paapi ki naav dubaata
Mere malik ke darbar me ,
sab logo ka khata


bade bade kanun prabhu ke ,
badi kadi maryaada
kisi ko kaudi ka nhi detaa
kisi ko damdi jyada
isiliye wo saare jag ka ,
nagar seth kahlaata
Mere malik ke darbar me ,
sab logo ka khata


karta wahi hisab sabhi ka
Nit aasan par dat ke ,
Unka faisala kabhi na badle ,
Lakh koi sar patke
Samajhdaar to chup rahta hai
Murakh shor machaata
Mere malik ke darbar me ,
sab logo ka khata

Ujali karni kar le re bande
Karam na karyo kala
Lakh ankh se dekh rha hai
Tujhe dekhne wala
Mere malik ke darbar me ,
sab logo ka khata


Mere malik ke darbar me ,
sab logo ka khata
Jisne jaisa karm kiya hai
waise hi fal pata

Leave a Comment