हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता लिरिक्स प्रेमभूषण जी महराज  

 
 

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता।
शरण में रख दिया जब माथ तो किस बात की चिंता।

किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता
किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता।
तेरे स्वामी, तेरे स्वामी, तेरे स्वामी,
तेरे स्वामी को रहती है, तेरे हर बात की चिंता।
॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो…॥

न खाने की, न पीने की, न मरने की, न जीने की।
न खाने की, न पीने की, न मरने की, न जीने की।
रहे हर स्वास, रहे हर स्वास, रहे हर स्वास
रहे हर स्वास में भगवान के प्रिय नाम की चिंता।
॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो…॥

विभीषण को अभय वर दे किया लंकेश पल भर में।
विभीषण को अभय वर दे किया लंकेश पल भर में।
उन्ही का हाँ, उन्ही का हाँ, उन्ही का हाँ
उन्ही का हाँ कर रहे गुण गान तो किस बात की चिंता।
॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो…॥

हुई भक्त पर किरपा, बनाया दास प्रभु अपना।
हुई भक्त पर किरपा, बनाया दास प्रभु अपना।
उन्ही के हाथ, उन्ही के हाथ, उन्ही के हाथ,
उन्ही के हाथ में अब हाथ तो किस बात की चिंता।
॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो…॥

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता।
शरण में रख दिया जब माथ तो किस बात की चिंता।

Hamare saath shri raghunath to kis baat ki chinta lyrics by prembhushan ji mahraj

 
hamaare saath shri rghunaath to kis baat ki chintaa
sharan me rkh diya jab maath to kis baat ki chintaa
 
 
kiya karate ho tum din raat ,kyon bin baat ki chintaa
kiya karate ho tum din raat, kyon bin baat ki chintaa
tere swami,
tere swami ko rahati hai, tere har baat ki chintaa
hamaare saath shri rghunaath to kis baat ki chintaa
 
 
 
Na khaane ki, Na peene ki, N marane ki, N jeene kee
Na khaane ki, Na peene ki, N marane ki, N jeene kee
rahe har svaas
rahe har svaas me bhagavaan ke ,priy naam ki chintaa
hamaare saath shri rghunaath to kis baat ki chintaa
 
 
 
vibhishan ko abhay var de diya lankesh pal bhar me
vibhishan ko abhay var de diya lankesh pal bhar me
unhi ka ha, unhi ka haa
unhi ka kar rahe gun gaan to kis baat ki chintaa
hamaare saath shri rghunaath to kis baat ki chintaa
 
 
 
hui bhakt par kirapa banaaya daas prabhu apanaa
hui bhakt par kirapa banaaya daas prabhu apanaa
unhi ke haath,
unhi ke haath me ab haath to kis baat ki chintaa
hamaare saath shri rghunaath to kis baat ki chintaa
sharan me rkh diya jab maath to kis baat ki chintaa
 
 
 
hamaare saath shri rghunaath to kis baat ki chintaa
sharan me rkh diya jab maath to kis baat ki chintaa
 

Leave a Comment