हर हाल में खुश रहना संतो से सीख जाए लिरिक्स 

हर हाल में खुश रहना संतो से सीख जाए  लिरिक्स राजन जी महाराज

हर हाल में खुश रहना संतो से सीख जाए |
महफ़िल में जुदा  रहना संतो से सीख जाए ||


सुख दुःख में हसना रोना ,है काम कायरो का | 
दोनों में मुस्कुराना,    संतो से सीख जाए ||
                       महफ़िल में जुदा  रहना......


झंझट से भाग जाना, सब लोग बताते है|
झंझट मे बचके रहना,संतो से सिख जाये||
                        महफ़िल में जुदा  रहना......

मरने के बाद मुक्ति, सब लोग बताते है |
जीते जी मुक्त रहना, संतो से सिख जाये||
                    महफ़िल में जुदा  रहना.....


दुनिया के लोग दौलत, पाकर के मुस्कुराते |
पर भिक्षु: बन के हसना, संतो से सीख जाए ||
                     महफ़िल में जुदा  रहना......



हर हाल में खुश रहना संतो से सीख जाए |
महफ़िल में जुदा  रहना संतो से सीख जाए ||

Leave a Comment