रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने भजन (Racha Hai Srishti Ko Jis Prabhu Ne lyrics in hindi)

रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने भजन (Racha Hai Srishti Ko Jis Prabhu Ne)

Song Credit : 
Lyrics : Shree Fanibhushan Chaudhary 
Singer : Dhiraj Kant 
Tabla : Ravish Kumar 


रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने,

रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने,
वही ये सृष्टि चला रहे है,
जो पेड़ हमने लगाया पहले,
उसी का फल हम अब पा रहे है,
रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने,
वही ये सृष्टि चला रहे है ॥
इसी धरा से शरीर पाए,
इसी धरा में फिर सब समाए,
है सत्य नियम यही धरा का,
है सत्य नियम यही धरा का,
एक आ रहे है एक जा रहे है,
रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने,
वही ये सृष्टि चला रहे है ॥

जिन्होने भेजा जगत में जाना,
तय कर दिया लौट के फिर से आना,
जो भेजने वाले है यहाँ पे,
जो भेजने वाले है यहाँ पे,
वही तो वापस बुला रहे है,
रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने,
वही ये सृष्टि चला रहे है ॥

बैठे है जो धान की बालियो में,
समाए मेहंदी की लालियो में,
हर डाल हर पत्ते में समाकर,
हर डाल हर पत्ते में समाकर,
गुल रंग बिरंगे खिला रहे है,
रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने,
वही ये सृष्टि चला रहे है ॥

रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने,
वही ये सृष्टि चला रहे है,
जो पेड़ हमने लगाया पहले,
उसी का फल हम अब पा रहे है,
रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने,
वही ये सृष्टि चला रहे है ॥



Racha hai srishti ko jis prabhu ne lyrics in english 


Racha hai srishti ko jis prabhu ne,
Wahi ye srishti chala rahe hai,
Jo ped humne lagaya pehle,
Usi ka phal hum ab pa rahe hai,
Racha hai srishti ko jis prabhu ne,
Wahi ye srishti chala rahe hai.


Isi dhara se sharir paaye,
Isi dhara mein phir sab samaaye,
Hai satya niyam yahi dhara ka,
Hai satya niyam yahi dhara ka,
Ek aa rahe hai, ek ja rahe hai,
Racha hai srishti ko jis prabhu ne,
Wahi ye srishti chala rahe hai.



Jinhone bheja jagat mein jaana,
Tay kar diya laut ke phir se aana,
Jo bhejne wale hai yahaan pe,
Jo bhejne wale hai yahaan pe,
Wahi to vaapas bula rahe hai,
Racha hai srishti ko jis prabhu ne,
Wahi ye srishti chala rahe hai.



Baithe hai jo dhaan ki baliyo mein,
Samaaye mehendi ki laaliyo mein,
Har daal har patte mein samaakar,
Har daal har patte mein samaakar
Gul rang birange khila rahe hai,
Racha hai srishti ko jis prabhu ne,
Wahi ye srishti chala rahe hai.

Racha hai srishti ko jis prabhu ne,
Wahi ye srishti chala rahe hai,
Jo ped humne lagaya pehle,
Usi ka phal hum ab pa rahe hai,
Racha hai srishti ko jis prabhu ne,
Wahi ye srishti chala rahe hai.

Leave a Comment